अधूरी है हर आयात मेरी तेरे ज़िक्र के बिना मेरे हर लफ़्ज़ मेरी हर दुआ की जैसे रूह तुम हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *