आधी लगती हूँ मैं बिना तेरे इक़रार के रात ढल रही हो जैसे सुबह के इंतज़ार में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *