जन्मदिन मुबारक शायरी – तीस मेरे लिए अजीब था.

तीस मेरे लिए अजीब था. मुझे सच मुच इस तथ्य को मानना पड़ा कि अब मैं एक चलता-फिरता वयस्क हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *