ज़ख़्म दे कर ना पुछा करो दर्द की शिद्दत, दर्द तो दर्द होता है थोड़ा क्या, ज्यादा क्या.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *