बर्थडे शायरी – चाहे धरती घूमना भूल जाये

“चाहे धरती घूमना भूल जाये; सूरज निकलना भूल जाये; पंछी उड़ना भूल जाये; ये दिल धड़कना भूल जाये; पर मेरे दोस्त इस शुभ दिन को मैं कभी नहीं भूलूंगा..
जन्मदिन मुबारक मेरे दोस्त।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *