बर्थडे शायरी – मुझे आश्चर्य है कि

मुझे आश्चर्य है कि , मेरे सत्तर मेरे साठ से अच्छे हैं और मेरे साठ मेरे पचास से ,मैं नहीं चाहूँगा कि मेरे दुश्मन भी मेरी किशोरावस्था और बीस वर्ष की उम्र से गुजरें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *