बड़ी शिद्दत से पिरोया है तुझको खुद में, कि अब लफ्ज़ों में नहीं लहज़ों में हो तुम.  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *