शुभ रात्रि शायरी – आसमान के तारों में खो

“आसमान के तारों में खो गया है जहान सारा; लगता है हमको प्यारा ये एक-एक तारा; इन तारों में सबसे प्यारा है वो सितारा; जो पढ़ रहा है इस वक़्त यह पैगाम हमारा।
शुभ रात्रि!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *