शुभ रात्रि शायरी – ख्वाहिशों के समंदर के सब

“ख्वाहिशों के समंदर के सब मोती तेरे नसीब हो; तेरे चाहने वाले हमसफ़र तेरे हरदम करीब हों; कुछ यूँ उतरे तेरे लिए रहमतों का मौसम; कि तेरी हर दुआ, हर ख्वाहिश कबूल हो।
शुभ रात्रि!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *