शुभ रात्रि शायरी – जब आपका नाम ज़ुबान पर

“जब आपका नाम ज़ुबान पर आता है; पता नही दिल क्यों मुस्कुराता है; होती है तसल्ली यह सोच कर हमारे दिल को; कि चलो कोई तो है अपना जो हर वक़्त याद आता है।
शुभ रात्रि!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *