शुभ रात्रि शायरी – जैसे चाँद का काम है

“जैसे चाँद का काम है रात में रौशनी देना; तारों का काम है बस चमकते रहना; दिल का काम है अपनों की याद में धड़कते रहना; वैसे हमारा है काम अपनों की सलामती की दुआ करते रहना।
शुभ रात्रि!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *