शुभ रात्रि शायरी – लगता है ऐसा कि कुछ

“लगता है ऐसा कि कुछ होने जा रहा है; कोई मीठे सपनो में खोने जा रहा है; धीमी कर दे अपनी रौशनी ऐ चाँद; यार मेरा अब सोने जा रहा है।
शुभ रात्रि!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *