शुभ रात्रि शायरी – वो दिन दिन नही वो

“वो दिन दिन नही, वो रात रात नही; वो पल पल नही, जिस पल आपकी बात नही; आपकी यादों से मौत हमे अलग कर सके; मौत की भी इतनी औकात नही।
शुभ रात्रि!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *