शुभ रात्रि शायरी – शाम के बाद जब आती

“शाम के बाद जब आती है रात; हर बात में समा जाती है तेरी याद; होती बहुत ही तनहा ये जिंदगी; अगर न मिलता कभी जो आपका साथ।
शुभ रात्रि!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *