सुप्रभात शायरी – खिलखिलाती सुबह ताज़गी से भरा

“खिलखिलाती सुबह, ताज़गी से भरा सवेरा है; सुबह की बहारों ने आपके लिए रंग बिखेरा है; सुबह कह रही है जाग जाओ अब नींद से; आपकी मुस्कुराहट के बिना तो सब अधूरा है।
सुप्रभात!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *