सुप्रभात शायरी – हर दिन अच्छा नहीं हो

“हर दिन अच्छा नहीं हो सकता लेकिन हर दिन में कुछ अच्छा ज़रूर होता है।
सुप्रभात!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *