सुप्रभात शायरी – ज़िन्दगी की हर सुबह कुछ

“ज़िन्दगी की हर सुबह कुछ शर्तें लेकर आती है और ज़िन्दगी की हर शाम कुछ तज़ुर्बे देकर जाती है।
सुप्रभात!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *