❤बेचैनी भी जहाँ सुकून देने लगती है, आ देख, उस दौर से गुजर रहा हूँ मैं..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *