Month: October 2017

Deewana Shayari – आपकी इस दिल्लगी में हम

आपकी इस दिल्लगी में हम अपना दिल खो बैठे,
कल तक उस खुदा के थे जो आज आपके हो बैठे,
सुना तो था प्यार दीवाना कर देता है,
करके जो देखा खुद तो हम भी होश खो बैठे


loading...

Deewana Shayari – कोई दीवाना कहता है कोई

कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ तू मुझसे दूर कैसी है
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है

Deewana Shayari – शरीके-ज़िंदगी तू है मेरी मैं

शरीके-ज़िंदगी तू है मेरी, मैं हूँ साजन तेरा
ख्यालों में तेरी ख़ुश्बू है चंदन सा बदन तेरा

अभी भी तेरा हुस्न डालता है मुझको हैरत में
मुझे दीवाना कर देता है जलवा जानेमन तेरा

Deewana Shayari – .किसी को चाहने का कोई

किसी को चाहने का कोई बहाना नहीं होता
दिल लगाने से कोई दीवाना नहीं होता
आशिक़ी सीखनी हो तो सीखो हमसे
हमें पता है मोहब्बत का मतलब पाना नहीं होता

Deewana Shayari – दीवाना हू तेरा मुझे इनकार

दीवाना हू तेरा मुझे इनकार नही है,
कैसे कह दूँ के तुमसे प्यार नही है,
तेरी नज़रों ने भी की थी कुछ शरारत,
मेरा दिल अकेला ही तो इसका गुनेहगार नही है

Deewana Shayari – जब से तूने मुझे दीवाना

जब से तूने मुझे दीवाना बना रखा है;
संग हर शख्स ने हाथों में उठा रखा है;
उसके दिल पर भी कड़ी इश्क में गुजरी होगी;
नाम जिसने भी मोहब्बत का सज़ा रखा है!