Aarzoo Shayari – अब तुझसे शिकायत करना मेरे

अब तुझसे शिकायत करना, मेरे हक मे नहीं,
क्योंकि तू आरजू मेरी थी,पर अमानत शायद किसी और की !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *