Aarzoo Shayari – कुछ आग आरज़ू की उम्मीद

कुछ आग आरज़ू की ,उम्मीद का धुआँ कुछ
हाँ राख ही तो ठहरा , अंजाम जिंदगी का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *