Aarzoo Shayari – मुददत से थी किसी से

मुददत से थी किसी से मिलने की आरज़ू खुवाइश ए दिदार में सब कुछ भुला दिया ,,,
किसी ने दी खबर वो आएंगे रात को इतना किया उजाला अपना घर तक जला दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *