Akela Shayari – अकेला वारिस हूँ उसकी तमाम

अकेला वारिस हूँ उसकी तमाम नफरतों का,
जो शख्स सारे शहर में प्यार बाटंता है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *