Akela Shayari – उम्मीदें ख्वाहिशें ज़रूरतें ज़िम्मेदारियाँ.. इस घर

उम्मीदें, ख्वाहिशें, ज़रूरतें, ज़िम्मेदारियाँ..
इस घर में मैं कभी, अकेला नहीं रहता..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…