Alwida Shayari – वो अलविदा की रस्म भी

वो अलविदा की रस्म भी अजीब थी
उसका पत्थर सा चेहरा कभी भूलता नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *