Andaaz Shayari – ना जाने क्या कशिश है

ना जाने क्या कशिश है उनकी मदहोश निगाहो मे…..
नजर अंदाज कितना भी करो नजर उनपे ही पड़ती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…