Armaan Shayari – सुलग रहे है कब से

सुलग रहे है कब से मेरे, दिल में ये अरमान,
रोक ले अपनी बाहों में तू, आज मेरे तूफ़ान |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *