Badnaam Shayari – जलती है औरों के लिए

जलती है औरों के लिए फिर भी बदनाम होती है
सिगरेट तू कहीं औरत तो नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *