Barbaad Shayari – रोज़ रोते हुए कहती है

रोज़ रोते हुए कहती है ये ज़िंदगी मुझसे
सिर्फ एक शख्स कि खातिर मुझे बर्बाद मत कर ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *