Bechain Shayari – बेचैनी जब भी बढ़ती है

बेचैनी जब भी बढ़ती है धुंए में उड़ा देता हूँ ,
और लोग कहते हैं मैं सिगरेट बहुत पीता हूँ !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *