Bechain Shayari – मैं अपने मुस्कराहट की आड़

मैं अपने मुस्कराहट की आड़ में अपनी बेचैनी छुपा लेता हूँ,
मुस्कुराहटें सबके साथ बाँटी जा सकती हैं, बेचैनी नहीं…

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *