Bechain Shayari – सारी रात जागता रहा मै चाँद

सारी रात जागता रहा मै,
चाँद की एक झलक के खातिर…
पर कमबख्त बादलों को तरस भी ना आया,
मेरी बेचैनियों पर…….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *