Bekhabar Shayari – वो मेरे दिल पर सिर

वो मेरे दिल पर सिर रखकर सोई थी बेखबर,
हमने धड़कन ही रोक ली कि कहीं उसकी नींद ना टूट जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *