Benaqab Shayari – किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना

किसी की गलतियों को
बेनक़ाब ना कर,
‘ईश्वर’ बैठा है,
तू हिसाब ना कर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *