Benaqab Shayari – बड़ी आरज़ू थी महबूब को

बड़ी आरज़ू थी महबूब को बेनक़ाब देखने की
दुपट्टा जो सरका तो जुल्फें दीवार बन गईं 󾌬

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *