Bharosa Shayari – अश्क हैं मेरे ………. निकलते

अश्क हैं मेरे ………. निकलते हैं मगर तेरे लिए
फिर बता दुनिया में अब किस पर भरोसा मैं करूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *