Bhulana Shayari – इक बार तुझे अक़्ल ने

इक बार तुझे अक़्ल ने चाहा था भुलाना
सौ बार जुनूँ ने तिरी तस्वीर दिखा दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *