Bhulana Shayari – जाने किस काम में मसरूफ़

जाने किस काम में मसरूफ़ रहा बरसों तक
याद आया ही नहीं तुझ को भुलाना मिरे दोस्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *