Bhulana Shayari – फुल हो तुम मुरझाना नहीं अपने

फुल हो तुम मुरझाना नहीं
अपने इस दोस्त को कभी भुलाना नहीं

जब तक हम जिन्दा है ए दोस्त
कभी किसी से घबराना नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *