Bhulna Shayari – तअल्लुक़ की नई इक रस्म

तअल्लुक़ की नई इक रस्म अब ईजाद करना है
न उसको भूलना है और न उसको याद करना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *