Bhulna Shayari – तू मुझ को भूलना चाहे

तू मुझ को भूलना चाहे तो भूल सकता है
मैं एक हर्फ़-ए-तमन्ना तिरी किताब में हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *