Bichhadna Shayari – तू दिल पे बोझ ले

तू दिल पे बोझ ले के मुलाक़ात को न आ
मिलना है इस तरह तो बिछड़ना क़ुबूल है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *