Bichhadna Shayari – बिछड़ना जिनसे नामुमकिन समझती थी

बिछड़ना जिनसे नामुमकिन समझती थी,,,,
मुझे उनसे मिले अब तो ज़माने बीत गए,,,,।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…