Bichhadna Shayari – यूँ बिछड़ना भी मिरा आसाँ

यूँ बिछड़ना भी मिरा आसाँ न था उस से मगर
जाते जाते उस का वो मुड़ कर दोबारा देखना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…