Category: Akele Shayari

Akele Shayari – मंजिले भी उसकी थी रास्ता

मंजिले भी उसकी थी, रास्ता भी उसका था..
एक हम ही अकेले थे, काफिला भी उसका था..
साथ चलने की सोच भी उसकी थी, फिर रास्ता बदलने की सोच भी उसका था..
आज अकेले है…
दिल सवाल करता है, लोग तो उसके थे, क्या खुदा भी उसका था..???