Category: Barish Shayari

Naseeb Shayari – मैं तेरे नसीब कि बारिश नहीं

मैं तेरे नसीब कि बारिश नहीं जो तुझपे बरस जाऊं,
तुझे तक़दीर बदलनी होगी मुझे पाने के लिए…


loading...

New 4 Lines Shayari – बरसात आये तो ज़मीन गीली न

बरसात आये तो ज़मीन गीली न हो,
धूप आये तो सरसों पीली न हो,
ए दोस्त तूने यह कैसे सोच लिया कि,
तेरी याद आये और पलकें गीली न हों।