Category: Jazbaat Shayari

Jazbaat Shayari – पत्थर की दुनिया जज़्बात नही

पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,
दिल में क्या है वो बात नही समझती,
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती।

Jazbaat Shayari – दिल से मिलो तो सज़ा

दिल से मिलो तो सज़ा देते हैं लोग…
सच्चे जज्बात भी ठुकरा देते हैं लोग..
कोई नही मिलाता दो प्यार करने वालों को…
बैठे हुऐ दो परिंदों को भी उडा देते है लोग..