Category: Justaju Shayari

Justaju Shayari – तेरी जुस्तजू तेरी आरज़ू मेरे

तेरी जुस्तजू तेरी आरज़ू, मेरे दिल में दिलनशीं तू ही तू
तेरा ही ख़याल है रात-दिन, मेरी सोच में मकीं तू ही तू


loading...

Justaju Shayari – ग़ज़ब है जुस्तजू-ए-दिल का ये

ग़ज़ब है जुस्तजू-ए-दिल का ये अंजाम हो जाए
कि मंज़िल दूर हो और रास्ते में शाम हो जाए
ये मेरा फ़ैसला है आप मेरे हो नहीं सकते
मैं जब जानूँ कि ये जज़्बा मिरा नाकाम हो जाए