Category: Religious Shayari

Religious Shayari – ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं ऐं

ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं ऐं श्री पद्मावती देव्यै नमः
तूम कृपालु, मैं कमजोर माते!
तेरे जोर पे में इतराता हूँ
तेरी कृपा से माते!
मैं अंधेरो में भी आगे बढ़ता जाता हूँ
जय पारस जय माँ पद्मावती..

Religious Shayari – ना कोई राह़ आसान चाहिए ना

ना कोई राह़ आसान चाहिए,,,
ना ही हमें कोई पहचान चाहिए,,,
एक चीज माँगते रोज भगवान से,,
सब लोगों के चेहरे पे हर पल,,,
प्यारी सी मुस्कान चाहिये !!!

Religious Shayari – नहीँ चाहिए मुझे ऐसी खुशी

नहीँ चाहिए मुझे
ऐसी खुशी जो तुझ से दूर कर दे…!

मै राजी हूँ ऐसे दुखो मे भी जो
तुझ को याद करने पर मजबूर कर दे.

जय श्री कृष्णा


loading...

Religious Shayari – तेरे नयनों से प्रीत लगाई

तेरे नयनों से प्रीत लगाई है कान्हा….
अपने नयनों में हमें बसा लो तुम…..
बना के सुरमा हमें अपने काजल में मिला लो तुम….
रहेंगे सदा तेरे नयन कमल में
अपने नयनों में हमें छुपा लो तुम
मेरे कान्हा मेरे मुरलीधर

Religious Shayari – इसी जन्म की जानू कान्हा।आगे

इसी जन्म की जानू कान्हा।आगे का किसने देखा।
तेरी कृपा जो हो जाये तो ।बदले कर्मो की रेखा।
ये जीवन सुधर गया तो करूँ अगले जन्म की बात…………………
अरे वादा कर ले सांवरे। छोड़ोगे न साथ।।।।।अरे वादा कर ले……….

Religious Shayari – राम की तारीफ़ करूँ कैसे मेरे

राम की तारीफ़ करूँ कैसे,
मेरे शब्दों मेँ इतना ज़ोर नहीं,
सारी दुनिया में जाकर ढूँढ लेना,
मेरे राम जैसा कोई और नहीं!!
ह्र्दय से राम सुमिरन किया तो
आवाज़ हनुमान तक जाएगी,
हनुमानजी ने जो सुन ली हमारी,
तो हर बिगड़ी ही बन जाएगी!!
ll जय श्रीराम ll

Religious Shayari – आंसू पोंछ कर मेरे गोविन्द

आंसू पोंछ कर मेरे गोविन्द ने हसाया है
मुझे मेरी हर गलती पर भी मेरे गोविन्द ने सीने से लगाया है
मुझे विश्वास क्यों न हो मुझे अपने गोविन्द पर
मेरे गोविन्द ने हर हाल में जीना सिखाया है मुझे….
जय श्री गोविन्द……