Category: Takleef Shayari

Takleef Shayari – दिल की दास्ताँ भी बड़ी

दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होतीहै
बड़ी मुस्किल से इसे ख़ुशी नसीब होतीहै
किसी के पास आने पर ख़ुशी हो नहो
पर दूर जाने पर बड़ी तकलीफ होती है…

Takleef Shayari – ऐ खुदा काश तेरा भी

ऐ खुदा काश तेरा भी एक खुदा होता तो
तुझे भी ये अहसास होता कि,
दुआ कुबुल ना होने पे
कितनी तकलीफ होती है…


loading...

Takleef Shayari – अच्छे दोस्त”हाथ”और”आँख”की तरह होते हैं जब

अच्छे दोस्त”हाथ”और”आँख”की तरह होते हैं,
जब “हाथ”को तकलीफ होती है,
तो”आँख”रोती है,
और जब “आँख”रोती है तो “हाथ”आँसू पोछते हैं ।